गुड़िया दुष्कर्म और हत्या के दोषी को अदालत ने सुनाई उम्र कैद की सज़ा


18 जून। शिमला
प्रदेश के जिला शिमला के बहुचर्चित गुड़िया दुष्कर्म और हत्या मामले में कोर्ट ने दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। जिला एवं सत्र न्यायालय परिसर चक्कर में शुक्रवार को विशेष अदालत में सुनवाई हुई। सीबीआई द्वारा पेश किए गए चलान को आधार मानते हुए कोर्ट ने दोषी नीलू को उम्र कैद की सजा सुनाई। दुष्कर्म मामले में उम्र कैद (टिल फॉर नैचुरल डेथ) और हत्या मामले में उम्र कैद और 10 हजार जुर्माना की सजा सुनाई गई है।
विशेष अदालत ने अनिल उर्फ नीलू को 28 अप्रैल को दोषी करार दिया था। इससे पहले बीते मंगलवार को नीलू की सजा पर सुनवाई की प्रक्रिया पूरी हो गई थी। बता दें कि जिला शिमला के कोटखाई की एक छात्रा 4 जुलाई, 2017 को लापता हो गई थी। 6 जुलाई को कोटखाई के तांदी के जंगल में पीड़िता का शव मिला। जांच में पाया गया कि छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। इस वारदात के बाद पूरे प्रदेश में जनाक्रोश देखने को मिला था। गुस्साए लोगों ने कोटखाई थाने में भी आग लगा दी थी।

Spread the love